#हिन्दी 

अलमारी से मिले हुए बचपन के खिलौने,मेरी

आँखों की उदासी देख कर बोले,


तुम्हें ही बहुत शौक था बड़ा होने का! #बचपन




​वो जा रहे थे और हम खामोश खड़े देखते रहे, बुज़ुर्गों से सुना था कि पीछे से आवाज़ नही देते.!!

हम हँसते हैं तो बस अपने ग़म छिपाने के लिए.. और लोग देख के कहते है काश हम भी इसके जैसे होते!!

बारिश में भीगने के ज़माने गुज़र गए, वो शख्स अपने साथ मेरे शौक भी ले गया..!!

Sometimes you can’t stop yourself from sharing any message you got or you read somewhere on any other social networking site. Somewhere you feel connected to it. 

Advertisements

4 thoughts on “#हिन्दी 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s